Quotes New

Audio

Forum

Read

Books


Write

Sign In

We will fetch book names as per the search key...

बेरोजगार की विजय: संघर्ष की कहानी (Berozgar ki Vijay: Sangharsh ki kahani)

★★★★★
AUTHOR :
प्रताप चौहान (Pratap Chauhan )
PUBLISHER :
StoryMirror Infotech Pvt. Ltd.
ISBN :
9789394603141
PAGES :
64
PAPERBACK
₹140


About The Book:


लेखक ने इस पुस्तक में "बेरोजगार की विजय" कहानी के माध्यम से अपने विचार प्रस्तुत किए हैं। पाठकों की सुविधा के लिए कहानी को सरल भाषा में लिखा गया है।  


कहानी का उद्देश्य समझने के लिए कहानी को कई अध्यायों में विभाजित किया गया है। कहानी को रुचिपूर्ण बनाने के लिए संवाद शैली का प्रयोग किया गया है। जैसा कि आप सभी जानते हैं पाठकों की संतुष्टि ही किसी भी लेखक को आत्म बल प्रदान करती है। लेखक ने पुस्तक में वर्तमान में हो रही समस्याओं का उल्लेख किया है। समस्याओं का निराकरण कैसे करें इसे विधि पूर्वक कहानी के माध्यम से समझाया गया है। लेखक का उद्देश्य किसी भी व्यक्ति विशेष की भावना को आहत करना बिल्कुल भी नहीं है।


पुस्तक के माध्यम से केवल समाज में होने वाली समस्याओं का वर्णन किया गया है। लेखक को पूर्ण विश्वास है कि उनकी पुस्तक "बेरोजगार की विजय" पाठकों को अवश्य पसंद आएगी। 



About the Author:


लेखक का जन्म 20 अगस्त 1977 में उत्तर प्रदेश के जिला- फिरोजाबाद अंतर्गत तहसील जसराना के एक छोटे से गाँव में हुआ था। उनका जीवन बहुत ही संघर्षमय रहा। लेकिन उन संघर्षों में भी लेखक ने अपने जीवन को आनंदमय बनाकर हर कार्य सफल किए। भारतीय नौसेना में सेवा के माध्यम से लेखक ने अपनी जिंदगी के 15 वर्ष राष्ट्र को समर्पित किए।


इन 15 वर्षों में समस्त पूर्वी देशों की यात्रा की करके उन देशों की संस्कृति को जाना। लेखक प्रताप चौहान का मानना है कि भारतीय संस्कृति दुनिया की सबसे श्रेष्ठ संस्कृति है। भारतीय संस्कृति का प्रभाव पूरे विश्व में देखने को मिलता है। विश्व के अधिकांश लोग भारतीय तौर तरीकों को अपनाते हैं। भारतीय संस्कृति जीवन दर्शन का महत्वपूर्ण स्रोत है। भारतीय समाज कई आयामों का सार है। लेखक ने भारतीय समाज के विभिन्न आयामों पर आधारित कविताएं, कहानियां लिखी हैं। पिछले वर्ष स्टोरी मिरर द्वारा सितंबर 2021 में 'काव्य मंथन' पुस्तक प्रकाशित हुई। वर्ष 2022 में 'कहानी गंज तथा 'बेरोजगार की विजय' जैसे पुस्तकें प्रकाशित हुई है।


हमारा समाज विभिन्न विचारधाराओं में विभाजित होकर भी संगठित रहता है। विचारधाराओं में मतभेद होते हुए भी जनमानस में सामंजस्य दिखता है। इस प्रकार का सामंजस्य अन्य देशों में नहीं दिखता। भारतीय समाज कहानियों का स्रोत है। भारत भूमि ऋषि-मुनियों तथा वीर पुरुषों की भूमि है। इसलिए यहां पर प्रेरणादायक कहानियां, रोमांचक कहानियां, अनकही कहानियां हर व्यक्ति को जुबानी याद रहती हैं। उन्ही कहानियों के आधार पर लेखक काल्पनिक कहानियां लिखने में सफल रहते हैं। इसी क्रम में लेखक ने स्टोरीमिरर प्रकाशन,मुंबई (महाराष्ट्र) तथा केएफसी प्रकाशन, लखनऊ (उत्तर प्रदेश) के सहयोग से गद्य और पद्य विधा में कई कृतियां प्रकाशित कराई हैं।


स्टोरीमिरर द्वारा गद्य विधा में प्रकाशित होने वाली पुस्तक "बेरोजगार की विजय" है तथा पद्य विधा में "काव्य मंथन" है। केएफसी प्रकाशन द्वारा गद्य विधा में प्रकाशित पुस्तक "कहानी गंज" है। पुस्तक "काव्य मंथन" स्टोरीमिरर द्वारा सितंबर 2021 में प्रकाशित हुई थी। स्टोरीमिरर द्वारा प्रकाशित पुस्तक "बेरोजगार की विजय" में बताया गया है कि बेरोजगारी का वास्तविक आशय क्या है। लेखक ने इसका उपयुक्त वर्णन एक काल्पनिक कहानी के माध्यम इस पुस्तक में किया है। आशा है कि यह कहानी पाठकों को अवश्य पसंद आएगी। 













ADD TO CART
 Added to cart